What is secondary memory in Hindi

What is secondary memory in Hindi आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने बाले है की secondary memory क्या होती है? आप लोगो को यह तो पता ही होगा कि Computer Memory दो प्रकार की होती है पहली Primary और दूसरी Secondary.

हम कंप्यूटर में अपनी Files, software, photographs और दुसरे प्रकार के data को बहुत ज्यादा समय तक save करके रख सकते है.

What is secondary memory in Hindi
What is secondary memory in Hindi

यह काम  Primary Memory  से नही कर सकते है. क्योंकि ये memory Volatile Nature की होती है. मतलब की यह data को Temporary Store करती है. जब computer off हो जाता है तो इस Memory Device में जो Store data रहता है. वह पूरी तहर से मिट जाता है. इसी कारण से computer में Secondary Memory को इस्तमाल में लिया जाता है.

यह Storage Device computer में program और data को Permanently store करके रखती है. इस Memory में data को store कर सकते है, use कर सकते है और साथ में data को delete भी कर सकते है.

इसका सबसे अच्छा उदाहरण है Hard Disk और Solid-State Drive. आज के पोस्ट में हम आपको Secondary Memory के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है. तो दोस्तों हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े. चलिए देखते है कि What is secondary memory in Hindi

What is secondary memory in Hindi

secondary memory computer की Permanent Storage Device  है. इस जगह में data और Software program को permanent store किया जाता है.

एक Secondary Memory की Storage capacity ज्यादातर 16TB (Terabytes) तक की होती है. लेकिन Primary Memory ज्यादा से ज्यादा 32 GB (Gigabytes) तक ही data को store कर सकते है.

हमारे computer में Files, applications, multimedia, video, audio and photographs, etc. रखते है. यह सभी Secondary Storage में store रहते है. इन सभी data को इसलिए secondary storage में store करते है.

क्योकि Computer Processor Direct access नही कर सकती है. इसके लिए पहले डेटा को Primary Memory (RAM) में load किया जाता है. Secondary Memory slow होती है RAM की compare में.

इसमें कंप्यूटर के off होने के बाद भी आपका data Safe रहता है. इसी कारण से इसको Non-Volatile कहते है. computer में HDD और SSD को “Secondary Memory” कहते है.

Pen Drives, CDs और DVDs etc यह सभी Backup Memory में इस्तमाल किया जाता है. इसकी Storage capacity अधिक होती है. और यह सस्ती होती है.

Secondary memory के प्रकार

Secondary Memory के मुख्य रूप से चार प्रकार होते है.

  1. Magnetic Tape
  2. Magnetic Disk
  3. Optical Disk
  4. Flash Memory

 Magnetic Tape

Electronic data को store करने के लिए Magnetic Tape सबसे पुरानी Storage device है. computer में इसका इस्तमाल बहुत पहले से ही बंद हो गया था. Magnetic Tape एक Sequential Access Memory होती है. जिसमें store data को Order में ही access किया जाता है. उदाहरण पुराने समय मे इस्तमाल होने वाली Audio Cassette में अगर अगर पांच Recording save है.

Magnetic Disk

Magnetic Disk को computer में एक Secondary Memory के रूप में इस्तमाल किया जाता है. इसमें Metal से बनी एक Plate लगी होती है. जिस पर Magnetic material की जुडी होती है.

Magnetic Disk में इस Metal plate को Platter कहते है.और इसमें एक Mechanical Arm भी लगा होता है. इसका काम data को Readऔर Write करना होता है.

इस Memory data को लेने के लिए Direct Access Method का इस्तमाल किया जाता है. मतलब की यूजर किसी भी information को direct access कर सकता है. जो Secondary Memory में store रहता है.

Magnetic Disk के दो प्रकार होते है.

Hard Disk Drive: यह computer की प्रमुख data storage device कहलाता है. इस system में Memory Device होती है जो Operating System, Computer Application, files और data को लंबे समय तक store करके रखती है.

इसी कारण इसको Permanent Storage Device भी कहा जाता है. Hard Drive कंप्यूटर case के अंदर होती है और data cable (PATA, SATA, SCSI) के माध्यम से computer से connect होती है. इसकी Storage capacity बहुत ज्यादा होती है.

Floppy Disk: यह Removable Magnetic Disc होती है. जिसका इस्तमाल 1990 से computers में मुख्य Storage device में किया जाता था. इसको Floppy Diskette भी कहते है. यह एक Flexible Magnetic Disk की बनी होती है.

Optical Disk

Optical Disc भी एक Storage medium है, जिसका इस्तमाल computer में Secondary Memory के रूप में करते है. इस Disc का इस्तमाल Music, video and software programs को store करने के लिए किया जाता है.

अधिकतर इस्तमाल होने वाली कुछ प्रमुख Optical Disc इस प्रकार है-

Compact Disc (CD): यह Plastic से बनी एक round shape Disc होती है. जो Optically data को store करती है. CDs का इस्तमाल Audio, Video and Applications को store करने के लिए किया जाता है. यह Removable होती है. एक CD में 700MB तक data को store रख सकता है.

Digital Versatile Disc (DVD): इसे Digital Video Disc भी कहते है. यह CD के तहर ही होती है. इसमें बहुत ज्यादा data को store किया जा सकता है. इस Disc की Storage capacity 4.7 GB से 8.5 GB तक होती है.

Blue-ray Disc: यह एक प्रकार की Optical Disc है. जो Shape में CD और DVD के तहर ही होती है. Blue-ray Disc लगभग 25 GB data को रख सकती है. इसमें से High-Definition की Videos or movies store की जाती है.

Flash Memory

यह भी एक Secondary Memory है. जिसका ज्यादातर इस्तमाल data का Backup रखने के लिए किया जाता है. यह एक प्रकार की EEPROM है. ये Removable Storage Device है. इसलिए इसका इस्तमाल एक computer से दूसरे computer में data को Transfer करने के लिए भी किया जाता है.

Flash Memory के कुछ उदाहरण नीचे बताये गए है

Memory Card: इसमें एक छोटी Chip होती है. जिसका इस्तमाल Mobile Phone, Camera, MP3 Player और दुसरे portable device में data को रखने के लिए किया जाता है.

Pen Drive: यह एक Portable Storage Device है, जिसका इस्तेमाल Audio, video और data files को एक computer से दूसरे computer में Transfer करने के लिए किया जाता है.

SSD (Solid-State Drive): आजकल computer में ज्यादा से ज्यादा इस्तमाल किया जा रहा है. SSD में NAND Flash Memory को उपयोग में लिया जाता है. जिसमें किसी भी तरह का Moving part नही होता है.

Secondary Memory की विशेषताएं

1. Secondary Memory एक Non-Volatile Nature की memory होती है.

2. इस memory में data को Permanently store किया जाता है.

3. इस में कई TB (Terabytes) data को store करने की capacity होती है.

4. इस की कीमत Primary Memory से काफी कम होती है.

5. computer में Backup Memory के तहर इसका इस्तमाल होता है.

Primary और Secondary storage में अंतर

Primary MemorySecondary Memory
यह Permanent और temporary memory होती हैयह एक Permanent memory होती है।
Primary Memory ज्यादा Expensive होती है Secondary Memory की compare में.Secondary Memory सस्ती होती है Primary Memory के compare में.
इस memory में store data को CPU से Directly Access किया जाता है.इस memory में data store को CPU access करे. लेकिन उसके लिए data को पहले Primary Memory में load करते है.
इसे Main Memory या System Memory भी कहते है.इसे Secondary Storage Device और External Memory भी कहते है.
जैसे – RAM, ROMCache Memory और Register. जैसे Hard Disk और Solid-State Drive etc.
Primary और Secondary storage में अंतर

तो दोस्तों हमे उम्मीद है आपको What is secondary memory in Hindi से जुडी पूरी information मिल चुकी होगी.आज के इस पोस्ट हमने आपको के बारे में पूरी जानकारी दी है. हम आशा करते  है कि आप सभी को हमारा ये पोस्ट   पसंद आया होगा. हम हमेशा यही कोशिश करते है की आप सभी को ज्यादा से ज्यादा जानकरी दे सके. इस article में हमने आपको हर प्रकार की जानकारी देने की कोशिश करी है.

इस article What is secondary memory in Hindi को पढ़कर आपको जो हर प्रकार की information मिल जायेगी. अगर आपको इस article से related कोई भी doubts है. या आपको हमसे कुछ भी पूछना हो. तो आप लोग हमे comments कर सकते है.

अगर आपको हमारे इस पोस्ट What is secondary memory in Hindi से कुछ भी सीखने को मिला हो. तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा facebook , twitter , Instagram etc पर जरुर share करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + 18 =