What is Hard Disk In Hindi

What is Hard Disk In Hindi इसे चाहे जो भी कहा जाए, प्राथमिक Hard Disk में आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम का रूट फ़ोल्डर होता है।

कंप्यूटर में हार्ड डिस्क ड्राइव मुख्य, और आमतौर पर सबसे बड़ा, डेटा स्टोरेज हार्डवेयर डिवाइस होता है। ऑपरेटिंग सिस्टम, सॉफ्टवेयर, और अधिकांश अन्य फ़ाइलों को हार्ड डिस्क ड्राइव में स्‍टोर किया जाता है।

हार्ड डिस्क को Hard drive, HD, या HDD के रूप में भी जाना जाता हैं।

यह एक नॉन- वोलेटाइल मेमोरी हार्डवेयर डिवाइस हैं जो कंप्यूटर पर डेटा को परमानेंटली स्‍टोर और रिट्रीव करता है।

सभी कंप्यूटर्स और लैपटॉप में स्‍टोरेज के लिए इंटरनल हार्ड डिस्क होती है, और अतिरिक्त मामलों में हार्ड डिस्क को USB, FireWire या eSATA पोर्ट में अतिरिक्त स्टोरेज के लिए प्लग किया जा सकता है।

हार्ड डिस्क कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी नहीं हैं। डिस्क में प्रोग्राम और डेटा तब तक स्‍टोर रहता हैं, जब तक यूजर्स द्वारा जानबूझ कर डिलीट नहीं किया जाता। लेकिन RAM/Memory एक टेम्पररी वर्कस्पेस है।

हार्ड ड्राइव पर क्या स्‍टोर किया जाता है?

म्‍युजिक, वीडियो, टेक्स्ट डयॉक्‍युमेंटस्, और बनाई गई या डाउनलोड की गई किसी भी फ़ाइल सहित किसी भी टाइप के डेटा को स्टोर करने के लिए हार्ड ड्राइव का उपयोग किया जा सकता है।

साथ ही, हार्ड ड्राइव कंप्यूटर पर रन हो रहे ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम के लिए फ़ाइलों को भी स्‍टोर करता है।

हार्ड ड्राइव कि साइज़ कितनी होती हैं?

हार्ड ड्राइव आमतौर पर किसी भी अन्य ड्राइव की तुलना में अधिक डेटा स्टोर करने में सक्षम है, लेकिन इसकी साइज और उसकी उम्र के प्रकार के आधार पर भिन्न हो सकता है। पुराने हार्ड ड्राइव में कई सौ megabytes (MB) से gigabytes (GB) कि स्‍टोरेज साइज होती थी।

नए हार्ड ड्राइव में कई सौ gigabytes (GB) से कई terabytes (TB) कि स्‍टोरेज कैपेसिटी होती है। हर साल, नई और बेहतर तकनीक से हार्ड ड्राइव स्‍टोरेज साइज बढ़ रही है।

आज आमतौर पर डेस्‍कटॉप पीसी या लैपटॉप में 160GB, 250GB, 500GB, 1TB और 2TB स्‍टोरेज साइज कि हार्ड डिस्‍क होती हैं।

लोकप्रिय हार्ड डिस्क ड्राइव मैन्युफैक्चरर

कुछ सबसे लोकप्रिय हार्ड ड्राइव मैन्युफैक्चरर में Western Digital, Seagate, Hitachi, और Toshiba शामिल हैं।

डेस्कटॉप हार्ड में कौन से पार्ट होते हैं?

What is Hard Disk
What is Hard Disk

Components Of Hard Disk In Hindi

डेस्कटॉप हार्ड ड्राइव में निम्न कंपोनेंट्स का समावेश होता है:

components of hard disk in Hindi:

1. Platter in Hindi:

Platter एक गोलाकार, मटेरियल डिस्क है जो एक हार्ड डिस्क ड्राइव के अंदर माउंट होती है। एक छोटे से एरिया में अधिक डेटा स्टोरेज सरफेस बनाने के लिए कई प्लेटर एक फिक्स्ड स्पिंडल मोटर पर माउंट होते हैं।

प्लेटर में एल्यूमीनियम या ग्लास सब्सट्रेट से बने कोर होते हैं, जो फेरिक ऑक्साइड या कोबाल्ट मिश्र धातु की पतली परत से ढके होते हैं। सब्सट्रेट मटेरियल के दोनों तरफ, एक पतली कोटिंग को स्‍पेशल मैन्युफैक्चरिंग तकनीक द्वारा डिपॉजिट किया जाता हैं।

यह, पतली कोटिंग ही हैं, जहां वास्तविक डेटा स्‍टोर किया जाता है जिसे मीडिया लेयर कहां जाता है।

2. Read/Write Heads in Hindi:

हेड मैग्नेटिक मीडिया के बीच एक इंटरफ़ेस होते हैं जहां हार्ड डिस्क में डेटा स्‍टोर किया जाता है और इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स होते हैं। हेड इनफॉर्मेशन को कन्‍वर्ट करते हैं, जो मैग्नेटिक पल्‍स के लिए बिट्स के रूप में होता है जब इसे प्लेटर पर स्‍टोर करना होता है और रिड के दौरान यह प्रोसेस उलट होती है।

हेड हार्ड डिस्क का सबसे परिष्कृत पार्ट होता हैं। प्रत्येक प्लेटर में दो read/write हेड होते हैं, जो टॉप पर और नीचे कि और माउंट होते हैं। यह हेड, हेड स्‍लाइडर्स पर माउंट होता है, जिन्हें हेड आर्म एंड पर सस्पेंडेड होता है। हेड आर्म को एक ही स्ट्रक्चर में शामिल किया जाता है जिसे एक्ट्यूएटर कहा जाता है, जो उनके मूवमेंट के लिए ज़िम्मेदार है।

3. The Spindle Motor:

हार्ड डिस्क प्‍लेटर्स को रन करने के लिए स्पिंडल मोटर हार्ड ड्राइव ऑपरेशन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

एक स्पिंडल मोटर को निरंतर उपयोग के लिए कई घंटों तक स्थिर, भरोसेमंद और लगातार मोड़ प्रदान करना चाहिए। यदि स्पिंडल मोटर ठीक से काम नहीं करती तो हार्ड ड्राइव फेल हो सकती है।

4. Hard Disk Logic Board:

हार्ड डिस्क, हार्ड डिस्क युनिट में इंटिग्रेट एक इंटेलीजेंट सर्किट बोर्ड के साथ बनाई जाती है। यह हार्ड डिस्‍क के नीचे कि तरफ माउंट होता है। इस लॉजिक बोर्ड के साथ read/write हेड फ्लेक्सिबल रिबन केबल के माध्यम से लिंक होता हैं।

5. Drive Bay:

पूरी हार्ड डिस्क को बाहरी हवा से बचाने के लिए डिज़ाइन किए गए एक एनक्लोश़र में लगाया जाता है। हार्ड डिस्क के आंतरिक वातावरण को धूल और अन्य दूषित पदार्थों से मुक्त रखना आवश्यक है। ये प्रदूषक read/write हेड और प्लेटर्स के बीच के अंतर में जमा हो सकते हैं, जिससे आमतौर पर हेड क्रैश होता है।

डिस्क के नीचे के भाग को भी बेस कास्टिंग कहा जाता है। ड्राइव मैकेनिक्स बेस कास्टिंग और एक कवर में रखा जाता है, जो आमतौर पर एल्यूमीनियम से बना होता है ताकि हेड और प्लेटर्स को घेरने के लिए टॉप पर रखा जा सके।

इन पूरे कंटेंटस् को बेस और कवर चेंबर पर रखा जाता हैं, जिसे हेड-डिस्‍क असेंबली के रूप में जाना जाता है। एक बार जब आप इस असेंबली को ओपन करते हैं, तो यह हार्ड डिस्‍क करप्‍ट हो जाती हैं।

हार्ड ड्राइव कंप्यूटर से कैसे कनेक्‍ट होती है?

इंटरनल हार्ड डेटा केबल (IDE, SATA, or SCSI) के माध्यम से कंप्यूटर को कनेक्ट होती है जो मदरबोर्ड से कनेक्ट होती है और इसके साथ ही इसे एक पॉवर सप्‍लाई के लिए पॉवर केबल भी कनेक्‍ट होती हैं।

हार्ड डिस्क कैसे काम करता हैं?

How a Hard Drive Works in Hindi:

रैम जैसे volatile स्‍टोरेज के विपरीत, हार्ड ड्राइव अपने डेटा को पॉवर ऑफ होने पर भी स्‍टोर करती है। यही कारण है कि जब आप अपने कंप्यूटर को रिस्‍टार्ट करते हैं, तो आपको अपने सभी डेटा का एक्‍सेस मिल जाता है।

हार्ड ड्राइव को पूरी तरह से समझने के लिए आपको यह जानना होगा कि यह फिजिकली कैसे काम करती है। असल में, इसमें डिस्क होते हैं, जो एक के ऊपर दूसरे कुछ मिलीमीटर पर रखे होते हैं। इन डिस्क को platters कहा जाता है।

इन platters को इस तरह से पॉलिश किया जाता है ताकि वे हाई मिरर शाइन और अविश्वसनीय रूप से चिकने बन जाए जो बड़ी मात्रा में डेटा को स्‍टोर कर सकते हैं।

इसके बाद इसमे एक आर्म होता है, जो platters के ऊपर और नीचे लगे होते हैं। यह डिस्क पर डेटा को राइट और रिड करता है। यह प्लेटर पर फैला हुआ होता है और इसके सेंटर एज़ से प्लेटर पर मूव करता हैं। इसके एक छोर पर लगे हेड से यह प्लेटर पर डेटा को Read/Write करता है।

औसत डोमेस्टिक ड्राइव में यह आर्म प्रति सेकंड लगभग 50 बार हिलता है।

हार्ड ड्राइव पुराने कैसेट टेप की तरह इनफॉर्मेशन स्टोर करने के लिए मैग्नटिज़म का उपयोग करते हैं। इसी कारण से, कॉपर हेड का उपयोग किया जाता है क्योंकि उन्हें आसानी से मैग्नटाइज़ किया जा सकता हैं।

Storage and Operation

जब आप एक फ़ाइल को सेव करते हैं, तो write हेड प्लेटर पर अक्सर 4,000 RPM कि स्‍पीड पर डेटा को write करता हैं।

हालांकि, यह कहीं भी नहीं जाता है क्योंकि कंप्यूटर बाद में फ़ाइल का पता लगाने में सक्षम होना चाहिए। यह ड्राइव पर पहले से ही किसी भी अन्य इनफॉर्मेशन में हस्तक्षेप या वास्तव में डिलीट नहीं करना चाहिए।

इस कारण से, प्लेटर्स को विभिन्न sectors और tracks में विभाजित किया जाता है। ट्रैक पीले रंग में हाइलाइट किए गए लंबे सर्कुलर डिवीजन हैं।

फिर इन ट्रैक को छोटे सेक्‍शन में डिवाइड किया जाता हैं, जिन्हें tracks कहा जाता हैं।

In Operation

जब आप अपने पीसी पर फ़ाइल, प्रोग्राम या वास्तव में कुछ भी ओपन करते हैं, तो हार्ड ड्राइव को इसे ढूंढना होता हैं। तो मान लीजिए कि आप किस एक फाइल को ओपन करते हैं। तो सीपीयू जो आप ओपन करना चाहते हैं वह हार्ड ड्राइव को बताएगा। हार्ड ड्राइव बहुत तेज़ी से घूमती है और यह फाइल को नैनो-सेकेंड में ढूँढ़ती हैं।

फिर हेड इस फाइल को read करेगा और इसे सीपीयू को भेज देगा। ऐसा करने में लगने वाले समय को read time कहा जाता है। फिर सीपीयू इस फाइल को ले जाता है और फाइल को आपकी स्क्रीन पर भेजता है।

हार्ड डिस्क का इतिहास क्या है?

History Of The Hard Disk In Hindi:

पहली हार्ड ड्राइव 13 सितंबर, 1956 को आईबीएम द्वारा बाजार में पेश की गई थी। हार्ड ड्राइव का इस्तेमाल पहली बार RAMAC 305 सिस्टम में किया गया था, जिसमें 5MB की स्टोरेज कपैसिटी और लगभग $ 50,000 ($ 10,000 प्रति मेगाबाइट) की लागत थी। हार्ड ड्राइव कंप्यूटर में बिल्‍ट-इन थी और रिमूवेबल नहीं थी।

1963 में, IBM ने 2.6 MB कैपेसिटी वाली पहली रिमूवेबल हार्ड ड्राइव को डेवलप किया।

1980 में IBM द्वारा 1GB की स्‍टोरेज कैपेसिटी वाली पहली हार्ड ड्राइव को भी डेवलप किया था। यह 550 पाउंड वजन और 40,000 डॉलर कि थी।

1983 में Rodime द्वारा डेवलप किए गए पहले 3.5-इंच आकार हार्ड ड्राइव की शुरुआत हुई। इसमें 10 MB की स्टोरेज कैपेसिटी थी।

Seagate 1992 में 7200 RPM हार्ड ड्राइव पेश करने वाली पहली कंपनी थी। Seagate ने 1996 में पहली 10,000 RPM हार्ड ड्राइव और 2000 में पहली 15,000 RPM हार्ड ड्राइव भी पेश की थी।

पहली Solid-State Drive (SSD) जैसा कि हम उन्हें आज जानते हैं, 1991 में SanDisk Corporation द्वारा 20 MB की स्टोरेज कैपेसिटी के साथ डेवलप किया गया था। हालांकि, यह फ़्लैश-बेस SSD नहीं थी, जिसे बाद में 1995 में M-Systems द्वारा पेश किया गया था।

Types of Hard Disk Drives in Hindi | हार्ड डिस्क के प्रकार कितने है?

वे वही हैं जो हम आम तौर पर इस्तेमाल करते हैं। वे दिन में 8 घंटे के लिए बेहतर प्रदर्शन करते हैं, अन्य की तुलना में सस्ते हैं, और डेटा करप्शन के मामले में भारी डेटा लॉस को रोकने के लिए पर्याप्त तेज़ी से बैकअप फ़ाइलों एक्‍सेस और मॉडिफाइ कर सकते हैं।

1. PATA Hard Disk in Hindi:

Parallel Advanced Technology Attachment

ये हार्ड डिस्क ड्राइव के पहले टाइप थे और उनमें कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए Parallel ATA इंटरफ़ेस स्‍टैंडर्ड का उपयोग किया। इन प्रकार के ड्राइव वे हैं जिन्हें हम Integrated Drive Electronics (IDE) और Enhanced Integrated Drive Electronics (EIDE) ड्राइव के रूप में रेफर करते हैं।

ये पाटा ड्राइव 1986 में Western Digital बैक द्वारा पेश किए गए थे। उन्होंने हार्ड ड्राइव और अन्य डिवाइसेस को कंप्यूटर से कनेक्‍ट करने के लिए एक कॉमन ड्राइव इंटरफ़ेस तकनीक प्रदान की। डेटा ट्रांसफर रेट 133MB/s तक जा सकता है और अधिकतम 2 डिवाइस ड्राइव चैनल से कनेक्ट किए जा सकते हैं। अधिकांश मदरबोर्ड में दो चैनलों का प्रावधान होता है, इस प्रकार कुल 4 EIDE डिवाइस इंटरनली कनेक्‍ट किए जा सकते हैं।

उनमें 40 या 80 वायर रिबन केबल का उपयोग किया जाता हैं, जिससे डेटा के कई बिट्स समानांतर ट्रांसफर किया जा सके।

इन ड्राइव में मैग्नेटिजम के उपयोग से डेटा स्टोर किया जाता हैं। इंटरनल स्ट्रक्चर मैकेनिकल मुविंग पार्ट से बना होता है।

आजकल, SATA हार्ड डिस्क द्वारा PATA हार्ड डिस्क को प्रतिस्थापित किया जा रहा है।

3. SATA Hard Disk in Hindi

Serial ATA

इन हार्ड डिस्क में PATA की तुलना में पूरी तरह से अलग कनेक्टर का उपयोग किया जाता हैं। उनके लिए IDE के मुकाबले एक अलग पावर एडाप्टर कि भी जरूरत होती हैं, हालांकि एडेप्टर आसानी से उपलब्ध होते हैं।

SATA और PATA हार्ड डिस्क के बीच मुख्य अंतर यह है कि पहले के मुकाबले यह पतला और फास्‍ट डेटा इंटरफ़ेस है। फिर भी, दोनो कि rpm स्‍पीड समान हैं। ATA ड्राइव अधिक कुशल हैं, और कम पॉवर का उपयोग करते हैं।

3. SCSI Hard Disk in Hindi

Small Computer System Interface (SCSI)

ये हार्ड डिस्क IDE हार्ड ड्राइव के समान हैं। वे IDE और SATA की तुलना में हाई रेट पर स्पिन करते हैं। IDE और SATA ड्राइव आम तौर पर 7,200 RPM पर स्पिन करते हैं, जबकि SCSI 10,000 से 15,000 RPM पर फैलते हैं। आज, 10,000 RPM की स्‍पीड वाले SATA मैन्युफैक्चर किया जाता हैं।

RPM जितना अधिक होगा, डेटा एक्सेस तेज होगा, लेकिन इससे तेज ब्रेकडाउन भी हो सकता है। SCSI हार्ड डिस्क को एक कंट्रोलर की आवश्यकता होती है जो ड्राइव और कंप्यूटर मदरबोर्ड के बीच इंटरफ़ेस ऑपरेट करता है।

4. Solid State Drives (SSD)

यह हार्ड डिस्क में अन्य टाइप के विपरीत, मुविंग पार्ट नहीं होते।

SSD डेटा स्‍टोरेज के लिए सेमिकंडक्‍टर का उपयोग करते हैं। चूंकि कोई मुविंग कंपोनेंट नहीं हैं, इसलिए ये हार्ड डिस्क बहुत फास्‍ट हैं और अन्य ड्राइव की तुलना में ब्रेक डाउन की संभावना कम है। हालांकि, इनकी कीमत अन्य हार्ड डिस्क की तुलना में थोड़ी अधिक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 2 =