कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi

क्या आप  जानते है की कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi ? आप सभी लोग Computers का उपयोग तो करते ही है. आजकल computer सभी जगहों में available होते है. जैसे Schools, Offices , home, etc.

Type of computer in Hindi
Type of computer in Hindi

आज के इस पोस्ट में हमको बताने वाले है की है कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi इसके बारे में जानने के लिए हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े. चलिए देखते है कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi

Computer क्या है?

कंप्यूटर एक machine होता है. जिसको ऐसा program किये जाते है. जिससे वो बहुत से काम कर सकते है. यह हमारे commands को input के हिसाब से लेता है. उसको process करता है और end में results output के हिसाब से provide करता है.

Characteristics of computer

1. यह एक specific set of instructions को एक well-defined manner में respond करता है.

2. यह एक prerecorded list of instructions को execute करता है.

3. यह बहुत सारे  data को store और retrieve करने की सक्षम रखता है.

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi

  • कार्यप्रणाली के आधार पर (Based on Mechanism)
    • Analog Computer
    • Digital Computer
    • Hybrid Computer
  • उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार (Based on Purpose)
    • General Purpose Computer
    • Special Purpose Computer
  • आकार के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार (Based on Size)
    • Micro Computer
    • Workstation
    • Mini Computer
    • Mainframe Computer
    • Supercomputer

कार्यप्रणाली के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार (Based on Mechanism)

1. Analog Computer

Analog Computer उन computers को कहते है. जो information display करने के लिए analog signal का उपयोग करते हैं.   इसका प्रयोग analog data को process करने के लिए भी किया जाता है.

यह Analog data continuous nature के होता हैं. जो discrete या separate नहीं होते हैं. और इन data में temperature, pressure, speed weight, voltage, depth etc होते है.

इसमें सारे Information continuous के form में होती हैं. उनको curves के आकार में display किया जाता है. जिसको continuous physical quantity (जैसे  current flow, temperature, blood pressure, heart beats)  को measure करने के लिए प्रयोग किया जाता है. यह quantities continuous होते हैं और इनमें एक infinite variety की values पाए जाते हैं.

यह continuous changes को कुछ physical quantity में measure करती है. जैसे Speedometer का उपयोग car की speed को measure करने के लिए किया जाता है.

Thermometer का उपयोग temperature के change को measure करने के लिए होता है, वहीँ Weighing Machine का इस्तमाल weight को measure करने के लिए होता है.

Analog Computers के Applications क्या हैं?

Analog computers का उपयोग  specialized engineering और scientific applications में किया जाता है. ताकि calculation और analog quantities को measure कर सके.

इसका उपयोग process को control करने के लिए भी किया जाता है. जैसे oil refinery में दोनों flow और temperature measurements important होते हैं.

इसका प्रयोग paper making और chemical industry के लिए भी किया जाता है.

Analog computers को storage capability की जरुरत नहीं पड़ती है. क्यूंकि यह एक single operation में measure और quantities को compare सकती है.

2. Digital Computers

Digital Computer इसके नाम से ही पता चलता है की यह digits के साथ काम करता है. जो numerals, letters या कोई दूसरा special symbols को represent करते हैं

Digital Computers ON OFF type के input को operate करता है और इसके output भी ON-OFF signal के form में होती है. इसमें ON को represent एक 1 से किया जाता है और OFF को represent एक 0 से. किया जाता है.

यानि digital computers information को electrical signal के Attendance or absence के अनुसार पर या फिर binary 1 या 0 पर process करता हैं.

एक digital computer का प्रयोग numeric और non-numeric के data को process करने के लिए किया जाता है. यह बहुत सारे arithmetic के operations को perform कर सकता है. जैसे addition, subtraction, multiplication, division और logical operations.

आजकल ज्यादातर computers available होते हैं. वह सभी digital computers हैं. उनमें आपको accounting machines और calculators तो जरुर देखने को मिलता है.

Digital computers ज्यादा accurate results provide करता हैं. analog computers के compare में. लेकिन Analog computers बहुत ही ज्यादा faster होता हैं digital के compare में.

पर Analog computers में information को store करने के लिए memory नहीं होती हैं. और वही digital computers में information को store करने के लिए memory होती हैं.

3. Hybrid Computers

hybrid computer digital और analog computers का combination होता है. इसमें इन दोनों ही प्रकार के computers के अच्छे features को आपस में combine किया गया है. जो Analog Computer की speed और Digital Computer की memory और accuracy को combine किया गया है.

Hybrid computers का उपयोग उन सभी specialized applications में किया जाता है. जिसमे दोनों प्रकार के data को process करने की जरुरत होती है. इससे दोनों प्रकार के data (continuous और discrete) को process करने में यूजर की बहुत ज्यादा मदद होती है.

Hybrid computers का प्रयोग scientific calculations में भी किया जाता है. यह एक ऐसा computer होता है जो binary और analog signal को भी समझने की सक्षम रखता है.

उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार (Based on Purpose)

Computer को उद्देश्य के आधार पर दो part में Special Purpose और General Purpose के आधार पर बांटा  गया हैं.

1. General Purpose Computers

आज के समय में जो computer का सबसे ज्यादा उपयोग होता है. वो General-Purpose computers ही होता है. इसको बहुत से variety के processing jobs को करने के लिए ही built किया गया.

आप एक general purpose computer और कुछ अलग अलग software का उपयोग करके ही बहुत से tasks को पूरा कर सकते है. जैसे writing और editing (word processing), data base में facts को manipulate करना , manufacturing inventory को track करना, scientific calculations , और किसी organization की security system को handle करने के लिए, ऐसे बहुत से काम में इनका प्रयोग किया जाता है.

यह अपने internal storage में बहुत आसानी से अलग अलग programs को store और execute कर सकते हैं. इसलिए ये ज्यादा varietly के operations को कर लेता है.

2. Special Purpose Computers

कोई specific प्रकार के task करने के लिए ही Special-Purpose Computer को design किया गया है. ज्यादातर समय उनका इस्तमाल एक particular problem को हल करने के लिए ही होता है. इसलिए इसको Dedicated Computers भी कहते है. क्यूंकि यह एक single task को बार बार करता है.

ऐसे computer system का उपयोग  satellite launch / tracking, oil exploration, traffic lights control system, graphic intensive Video Games, navigational system एक aircraft की, weather forecasting, और automotive industries, time का ध्यान रखने के लिए एक digital watch, या Robot helicopter में प्रयोग किया जाता है.

special purpose computer में बहुत से same features होते है. जो एक general purpose computer में होते हैं. लेकिन इसमें instructions के function को ज्यादा ध्यान दिया जाता है.

जो control करती है की directly ही computer में build किया जाता है, जिससे की ज्यादा efficient बन जाता है और बहुत ही ज्यादा effective operation भी करने की capable होता है.

इसको एक ही काम को करने के लिए की बनाया गया है. जिससे वो एक ही काम को सठिक ढंग से कर सके.

इसकी एक बड़ी drawback है वो इसमें versatility के equal नही होती है. जिसका मतलब है की इसे दुसरे किसी operations में उपयोग नहीं किया जा सकता है.

आकार के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार (Based on Size)

Computer को आकार के आधार पर श्रेणियों में बाँट सकते है.

1.Super Computer

यह computer multi-user, multiprocessor large computer होते हैं. जिनकी बहुत ही अधिक efficiency होती है और इसकी storing capacity भी ज्यादा होती है.

इस super computer में बहुत ही difficult और complex problems को solve करने की capacity होती है. वो भी nano seconds के अंदर में. इसको बनाने के लिए बहुत से RISC (Reduced Instruction Set Computer) processors का उपयोग किया गया है.

Super computers सबसे तेज और सबसे ज्यादा कीमती में मिलने वाला computers होता हैं. इन computers का उपयोग complex science और engineering problems को sol करने के लिए होता है.

Super computers में parallel processing का उपयोग होता है. जिससे सबसे ज्यादा processing होती है, जिससे की बहुत से CPUs को एक ही time में प्रयोग किया जाता है.

Supercomputer के Applications क्या हैं?

(i)  इसका उपयोग Weather और global climates को forecast करने के लिए किया जाता है.
(ii)  इसका military research और defense systems में भी प्रयोग होता है.
(iii)  इसका उपयोग automobile, aircraft, sensitive intelligence information की encrypting और decodingऔर spacecraft designing में होता है.
(iv)  और साथ में sensitive intelligence information की encrypting और decoding करने के लिए भी इस्तमाल किया जाता है.
(v)  इसका उपयोग seismography, plasma और nuclear research में भी होता है.
(vi)  Protein folding analysis करने के लिए इस्तमाल किया जाता है.
(vii)  DNA structure और gene engineering को study करने के लिए इस्तमाल किया जाता है.
(viii)  Digital film rendering के लिए इस्तमाल किया जाता है.

2. Main frame Computer

Main frame का मतलब है, “big iron“ होता है . यह Super Computer के तरह ही होता हैं. पर इन दोनों में जो main अंतर है वो ये की एक super computer अपनी सभी raw power का उपयोग करता है. वो भी कुछ tasks के लिए ही, वहीँ एक main frame का उपयोग बहुत से कामो को एक साथ ही करने के लिए उपयोग किया जाता है.

Mainframe Computer के Applications हैं

(i) Government और civilian में इस्तमाल किया जाता है.
(ii) Credit card processing करने के लिए इस्तमाल किया जाता है.
(iii) Bank में इस्तमाल किया जाता है.
(iv) Marketing में इस्तमाल किया जाता है.
(V) Business data processing करने के लिए बड़े organization में प्रयोग किया जाता है.
(vi) Air traffic control system में इस्तमाल किया जाता है.
(vii) Industrial design करने के लिए उपयोग किया जाता है.

3. Micro Computer

Micro Computer तेजी से बढ़ रहा है और Comprehensive रूप में उपयोग होने वाला computer है. यह सभी कम्प्यूटर से Cheap (सस्ता) और हल्का होता है. इसका आकार में भी सबसे छोटा होता है.

इस प्रकार के computer को General Purpose जैसे, Entertainment , Education, Home और Office मे उपयोग आदि के लिए Developed किया गया है. PCs, Notebooks, Laptops, PDAs (Personal Digital Assistants) etc Micro Computer होते है.

4. Work Station

यह एक ऐसा computer है जो किसी भी  Network से Connect  होता है. उसे ही Work Station कहा जाता है. इसको business और professionals को ध्यान में रखकर Developed किया गया है. यह computer Micro Computers से ज्यादा Fast and efficient होता है.

5. Mini Computer

Mini Computers को ‘Mid range Computer’ भी कहते है. इनका उपयोग छोटे Business Installations द्वारा किया जाता है. Mini Computers को Single User के लिए Developed नही किया गया है. इसको एकcompany के द्वारा अपने एक Special department मे किसी भी काम को करने में इस्तमाल लिया जाता है.

तो दोस्तों हमे उम्मीद है आपको कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi से जुडी पूरी information मिल चुकी होगी.आज के इस पोस्ट हमने आपको के बारे में पूरी जानकारी दी है. हम आशा करते  है कि आप सभी को हमारा ये पोस्ट   पसंद आया होगा. हम हमेशा यही कोशिश करते है की आप सभी को ज्यादा से ज्यादा जानकरी दे सके. इस article कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi में हमने आपको हर प्रकार की जानकारी देने की कोशिश करी है.

इस article कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi को पढ़कर आपको जो हर प्रकार की information मिल जायेगी. अगर आपको इस article से related कोई भी doubts है. या आपको हमसे कुछ भी पूछना हो. तो आप लोग हमे comments कर सकते है.

अगर आपको हमारे इस पोस्ट कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi से कुछ भी सीखने को मिला हो. तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा facebook , twitter , Instagram etc पर जरुर share करे.

One thought on “कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं – Type of computer in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by Hindi World Tech