Software Engineer कैसे बने?

एक programmer बनके खुद से application या system software develop करने की है. तो आपको इस पोस्ट Software Engineer कैसे बने? में बहुत कुछ जानने को मिलेगा. असल मे software engineering एक ऐसा क्षेत्र है, जो computer technology के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

How to become a Software Engineer
How to become a Software Engineer

उदाहरण के लिए देखे तो computer के दो अहम भाग hardware और software है और इनके बिना एक कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नही है. कंप्यूटर इंजीनियरिंग इसके एक aspect को परिभाषित करती है, जिसे हम सॉफ्टवेयर कहते है. यह computer science की ही एक branch है.

तो यदि आप software developer बनने के लिए उत्साहित है, हम आपको बतायेंगे कि आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बन सकते है. यह आसान काम नही है, इसके लिए आपको software engineering के क्षेत्र में training और degree लेनी होती है. जिसमे सबसे पहला काम यह समझना है, कि सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या है और एक software engineer का क्या काम होता है?

इसके बाद ही आप computer language को सीख कर किसी software को design और develop कर पायेंगे. तो “सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने” यह जानने से पहले जानते है, software engineer का मतलब क्या है?

सॉफ्टवेयर इंजिनीरिंग क्या है (Software Engineering in hindi)

Software Engineering दो शब्दों से मिलकर बना है, Software + Engineering. सॉफ्टवेयर का मतलब है, एक program जो computer को operate करने और कुछ विशिष्ट कार्यो को पूरा करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है. वहीं इंजीनियरिंग का अर्थ है, किसी product के design, construction और analysis के लिए उससे सम्बंधित method और principles का उपयोग करने की प्रकिया.

अब यदि इसका conclusion निकाले तो, Software engineering एक branch है, जहाँ Software production के सभी aspect पर काम किया जाता है. आसान भाषा मे सॉफ्टवेयर बनाने से लेकर उसके रखरखाव तक कि सभी जिम्मेदारी इसी संस्था के पास है. इसके कुछ प्रमुख उदाहरण नीचे दिए गए है.

  • Software design
  • Software construction
  • Software Maintenance
  • Software testing
  • Software development process

Software Engineer क्या करते है

यह तो हमने जाना कि एक computer program जिसे हम सॉफ्टवेयर कहते है, उसके निर्माण के पीछे software engineer का हाथ होता है. परन्तु Software engineer भी दो प्रकार के होते है, पहला Application software developer, जो सामान्य एप्लीकेशन बनाते है. जिनका उपयोग हम अपने कार्यो को करने या मनोरंजन के लिए करते है.

दूसरा System software developer, जो कंप्यूटर को operate करने वाले सॉफ्टवेयर (operating system, network) का निर्माण करते है. तो आईये जानते है, एक software engineer का क्या काम होता है-:

1) एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर का पहला काम उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं का विश्लेषण करके उन जरुरतों को पूरा करने के लिये सॉफ्टवेयर का निर्माण करना है.

2) पुराने सॉफ्टवेयर या exiting software में आ रही कमियों (bugs) को खोजना और उन्हें fix करना ताकि software की performance को improve किया जा सके.

3) Software की समय – समय पर testing करना और यह देखना की उसकी कार्यक्षमता में कोई कमी तो नही आ रही है.

4) यदि किसी software program को update करने की जरूरत है, तो उस पर काम करना.

5) computer specialist के साथ मिलकर किसी बड़े project पर काम करना.

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने? (How to Become a Software Engineer in Hindi)

Software engineer एक ऐसा profession है, जो समय के साथ तेजी से बदल रहा है. इसकी तकनीक में रोज कुछ न कुछ बदलाव होते ही रखते है. ऐसे में अगर आप इसमे अपना करियर बनाना चाहते है, तो आपको कुछ बातों का खास ख्याल रखना होगा. नीचे दिए गए सुझाव आपको इस क्षेत्र में आगे बढ़ने में मदद करेंगे.

सॉफ्टवेयर इंजिनीरिंग करियर के बारे में जाने

एक नए व्यक्ति को software engineering के क्षेत्र में जाने से पहले इसके career के बारे में विस्तार से जानने की जरूरत है. सॉफ्टवेयर इंजिनीरिंग में विभिन्न प्रकार के कार्य और job description होते है. इसीलिये यह जरूरी हो जाता है, कि आप कुछ भी निर्णय लेने से पहले उसके बारे में research करे.

ऐसा करने से आपके कई संदेह स्प्ष्ट होंगे और आप एक सही निर्णय ले पाएंगे. नीचे कुछ प्रमुख software engineer क्षेत्रो के उदाहरण दिए गए है.

Application developer
Mobile developer
Desktop developers
Front-end developer
Backend developer
Game developer
Graphics developer
System software developer

इसके अलावा भी कई और क्षेत्र है, जिनमे आप एक software engineer के तौर पर कार्यरत हो सकते है. एक महत्वपूर्ण बात सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में आपको विभिन्न प्रकार की programming language सीखनी होती है. तो यदि आप software engineer बनने के लिए तैयार है, उसके लिए सबसे पहले आपको इसके बारे में थोड़ा जानकारी लेनी होगी. तभी आप आगे के लिए योजना बना पाएंगे.

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर की डिग्री ले

यह आपका दूसरा कदम होना चाहिए. अगर आप चाहते है, कि आप एक बेहतर software engineer बन पाए, तो उसके लिये आपको bachelor’s degree लेनी चाहिए. अगर आप उनमें से है जो किसी वजह से यह डिग्री नही लेना चाहते तो आपको सभी चीजें खुद सीखनी होगी जिसमें समय और मेहनत ज्यादा लगेगी.

protocol क्या होता है?

इसके विपरीत किसी university या college से education लेकर आप software engineer की पढ़ाई बेहतर ढंग से कर पाएंगे. इसका फायदा आपको job interview में भी मिलेगा क्योंकि वहां Data structure और Algorithm से सम्बंधित अधिकतर सवाल पूछे जाते है.

computer science degree के syllabus में ज्यादातर इन्ही चीजों पर ध्यान दिया जाता है. कहने का तात्पर्य यह है, कि आपको software के theoretical concept और उनकी practice अच्छे से कराई जाती है. ताकि आप एक बेहतर software developer बन पाए.

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में अपनी स्किल को इम्प्रूव करे

एक बेहतर software engineer बनने के लिए आपको अपनी software program design करने की skills को लगातार improve करना होगा. जिसके लिए आपको programming language का ज्ञान होना बहुत जरूरी है. हालांकि ऐसा नही है, कि सिर्फ इन computer language में महारत हासिल कर लेने से आप अच्छे software engineer बन जाएंगे.

Python
JavaScript
C#
C++
C Language
Ruby
Java

इसके साथ ही आपका programming logic भी strong होना चाहिए. कुछ प्रमुख Programming Languages जो आपको सीखनी चाहिए. ऐसा बिल्कुल नही है, कि आपको यह सभी language सीखनी है. तब जाके अपनी जरुरत के हिसाब से दो या तीन Programming Languages को आप सीख सकते है.

Coding bootcamp में Enrollment ले

यदि आप अपनी coding skills को जल्दी बढ़ाना चाहते है, तो आपको coding bootcamp में दाखिला लेना चाहिए. यह एक technical training program है, जो प्रोग्रामिंग भाषाओ को सीखने में मदद करता है. असल मे इन कार्यक्रम की समय सीमा एक degree के मुकाबले काफी कम होती है.

एक कोडिंग बूटकैम्प 6 से 12 weeks तक चलते है, जिसमें आप कोडिंग के महत्वपूर्ण पहलुवों पर ध्यान केंद्रित करते है. आज के समय कई ऐसे कोडिंग बूटकैम्प भी है, जो दो साल तक चलते है. इसका सबसे बड़ा फायदा ये है, कि आपको software engineer कैसे काम करते है इसका अनुभव हो जाता है.

Profession में जुड़े लोगो से Advice ले

अगर आप किसी बात को लेकर समस्या में है, तो software engineering से जुड़े बाकी लोगो के साथ सवाल जवाब करे. इंटरनेट पर कई ऐसे forum और websites मौजूद है, जहां आप रजिस्टर करने के बाद अपने सवालों को उस फोरम से जुड़े बाकी software engineer से पूछ सकते है. इससे आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में experience मिलता है. आपकी कई आशंकाएं दूर हो जाती है और आप programming के नए तरीकों को सीख पाते है.

Software building project पर काम करे

आपने जितना सीखा है, उसे प्रैक्टिस करने का यह सबसे अच्छा तरीका है. खुद से एक software build करने की कोशिश करे. इससे न सिर्फ आपकी coding skills इम्प्रूव होगी, बल्कि आप सही दिशा में आगे भी बढ़ पाएंगे. सॉफ्टवेयर बनाने में आने वाली मुसीबतें ही आपको तैयार करेगी एक professional software engineer बनने के लिए.

Internship की तलाश करें

Internship एक software engineer का training period होता है. जिसे आप अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद कर सकते है. इसमे आपको किसी company में जाकर एक intern के रूप में काम करना होता है. इसके लिए बहुत सी कंपनी आपको सैलेरी भी देती है. इंटर्नशिप करने से आप software development को और बारीकी से समझ पाते है.

Job के अवसर खोजें

Software engineering एक तेजी से बढ़ता हुआ क्षेत्र है, job opportunity की यहा कोई कमी नही है. कुछ सर्वे बताते है, कि बेहतर नॉकरी के हिसाब से सॉफ्टवेयर इंजीनियर की जॉब सबसे ऊपर है. इसलिये आप अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद सीधे जॉब की तलाश कर दीजिए. हालांकि आप एक programmer के रूप में शुरूवात कर सकते है.

अगर आप एक अच्छे कॉलेज में पढ़ रहे है, तो आपको सीधे placement मिल जाती है. वैसे कई software engineer खुद की कंपनी खोलना पसंद करते है.

Software Engineer Course Details in Hindi

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कोर्स जिनकी सूची नीचे दी गयी है.

1. Diploma Course

  • Diploma in Software Engineering
  • Diploma in Computer Science
  • Diploma in Information Technology (IT)

समय सीमा (Duration) – यह तीन साल का कोर्स (Three-year course) होता है.

योग्यता (Eligibility) – इस कोर्स के लिए एक छात्र की न्यूनतम योग्यता दसवीं पास (10th pass out) होनी चाहिये.

2. Bachelor’s Degree

  • B.Tech (Bachelor of Technology) in Computer Science and Engineering
  • B.Tech in Information Technology
  • B.Tech in Software Engineering
  • B.Sc (Bachelor of Science) in Software Engineering
  • B.Sc. in Information Technology
  • B.Sc. in Computer Science
  • B.Sc. in Computer Application

समय सीमा (Duration) – स्नातक पाठ्यक्रम तीन से चार साल (3-4 years) तक के होते है.

योग्यता (Eligibility) – बारहवीं क्लास पास (12th pass out) होने के साथ ही आपके पाठ्यक्रम में physics, mathematics और chemistry शामिल होने चाहिए.

3. Master Degree

  • M.Tech (Master of Technology) in Software Engineering
  • M.Sc (Master of Science) in Information Technology
  • MCA (Master of Computer Application)

समय सीमा (Duration) – इन कोर्स की समय सीमा दो से तीन साल (2-3 years) तक होती है.

योग्यता (Eligibility) – सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में Bachelor’s degree की पढ़ाई पूरी करने के बाद आप यह कोर्स कर सकते है.

4. PG Diploma Course

  • PG (Post Graduate) Diploma in Software Engineering
  • PG Diploma in Computer Engineering
  • PG Diploma in Software and Networking
  • Advance Diploma in Software Engineering

समय सीमा (Duration) – पीजी कोर्स की समय सीमा न्यूनतम दो से तीन साल (1-2year) तक होती है.

योग्यता (Eligibility) – सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में bachelor’s degree प्रोग्राम  पूर्ण होना चाहिए.

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी – Salary

भारत मे एक software engineer की औसतन Salary 15,000 – 20,000/प्रति माह हो सकती है. यह data इंटरनेट पर मौजूद उपलब्ध जानकारी से लिया गया है. इस क्षेत्र के विशेषज्ञ का मानना है, एक software developer की औसतन सैलेरी का कोई अनुमान नही है.

अगर आप एक highest paying software companies (Google, Adobe, Intel, Cisco, Infosys, Microsoft) में काम करते है, तो आप 50,000 से 100,000 तक शुरुआती सैलेरी पा सकते है.

Conclusion

इस लेख पर आपने जाना Software Engineer कैसे बने? जिसके अंतर्गत हमने आपको कई ऐसे टिप्स दिए जिनका अनुसरण करके आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की दिशा में अपने कदम बड़ा सकते है. उम्मीद है, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको Software Engineering से सम्बंधित सवालों के जवाब मिल गए होंगे. अगर आपको इस पोस्ट से related कोई भी question हो हमे जरुर comment करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by Hindi World Tech