Protocol kya hai | Type of protocol | Yah kaise kam krata hai in hindi

क्या आप जानते है कि Protocol kya hai . इसके प्रकार कितने होते है और यह कैसे काम करता है. अगर आप लोग internet या technology से जुड़े है आप लोगो ने protocol का नाम तो सुना होगा.

पर क्या आप लोग जानते है की अगर protocol नही होता है . तो हम को किसी भी प्रकार की technology को इस्तमाल नही कर पा सकते थे. आज के इस article में हम आपको Protocol kya hai | Type of protocol | Yah kaise kam krata hai in hindi की पूरी जानकारी देने वाले है. हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढ़े.

Protocol-kya-hai

Protocol kya hai – what is protocol

protocol का meaning ” नियम समूह ” होता है. इसका मतबल की किसी भी प्रकार की चीज़ या काम को करने के लिए जो नियम बनाये गए है. computer network में कोई भी information को सही से आदान- प्रदान करने के लिए कुछ rule बनाये गए है. और इन्ही rule या नियम को protocol कहते है.

किसी भी network के networking device को आपस में communicate करने के लिए , data को send और receive करने के लिए और data को transfer करने के लिए protocol पर निधरिक होता है. network में protocol होना जरुरी होता है. अगर network में protocol नही होता है, तो network काम ही नही कर सकता है.

आप लोगो ने बहुत बार देखा होगा की हर एक website के सामने http:// और https:// लिख रहता है. तो यह भी एक network protocol होता है. जो server से कोई भी website के webpages को हमारे computer की screen पर show करवाता है.

Type of protocol in hindi

  • Http (hyper text transfer protocol)
  • TCP (transmission control protocol)
  • POP (Post office Protocol)
  • FTP (file transfer protocol)
  • SMTP (Simple mail transfer protocol)
  • SSL (secure socket layer)
  • Ethernet protocol

Http (hyper text transfer protocol)

यह client और protocol server से जुड़ा रहता है. जैसे इन्टरनेट से server जुड़ा होता है और जब कोई भी information को search करते है. तो वो information server पर store रहती है.

internet पर जितनी भी website होते है. उन सभी website के आगे http लगा होगा है. आपको http लिख हुआ हर एक website में मिलगा. browser पर website को protocol की मदद से ही access किया जाता है.

TCP (transmission control protocol)

इसका काम internet को data transfer करने के लिए किया जाता है. इस protocol का इस्तमाल कंप्यूटर और कंप्यूटर device को communicate करने के लिए किया जाता है. इस protocol के बिना communication करना impossible होता है.

यह किसी भी दो device के बीच में communication करवाता है. यह data को small packets में network की मदद से destination करके send किया जाता है. फिर उसको जुड़ किया जाता है.

POP (Post office Protocol)

इस protocol का इस्तमाल email को receive करने के लिए किया जाता है. इसी कारण से इसको Post office Protocol कहते है. और इसका इस्तमाल SMTP के साथ होता है.

FTP (file transfer protocol)

इस protocol की मदद से file जैसे doc, multimedia, text etc को internet और network परत send किया जाता है. और इसके साथ file को upload और download करने में भी मदद करता है. इसमें बहुत fast speed से file को transfer किया जाता है.

और network में files को manage करने के लिए FTP server बनाया जाता है.

SMTP (Simple mail transfer protocol)

इस protocol इस्तमालinternet में mail को send और receive करने के लिए किया जाता है.

SSL (secure socket layer)

यह एक secure transmission protocol होता है. इसका इस्तमाल client और server के बीच में होने वाली communication और connection को security provide करने के लिए किया जाता है.

example जब भी आप ऑनलाइन transaction करते है. तो यह server और client में एक security layer बनाकर रखती है.

Ethernet protocol

इस protocol का collage , school और office etc. में बहुत ही अधिक इस्तमाल किया जाता है. इसको connect करने के लिए lan connection का इस्तमाल किया जाता है.

इस तहर की connection को connect करने के लिए ethernet protocol का ही उपयोग किया जाता है. किसी भी कंप्यूटर को connect करने के लिए ethernet नेटवर्क होना बहुत जरुरी होता है.

Use of protocol

वैसे तो protocol बहुत प्रकार के होते है. इसके कुछ common use होते है जैसे:-

  1. इसका use data को transfer करने के लिए किया जाता है.
  2. इसका उपयोग data को structure बनाने के लिए किया जाता है
  3. protocol का प्रयोग data को format करने के लिए किया जाता है.
  4. यह transmission की speed को भी maintain करती है.
  5. यह दो device को connect करने में भी मदद करता है.

Advantages of protocol

  • इससे computer में maintenance और installation बहुत आसानी से हो होता है.
  • इसमें दो device को connect करने में बहुत मुश्किल होता है. तो यह protocol की मदद से ही communicate कर पाते है.
  • कंप्यूटर से दूर-दूर तक data को आसानी से transfer कर सकते है.

Disadvantages of protocol

  • इसमें international standard से communicate नही मुशिकल होता है. क्योकि इसके कुछ rule होते है.
  • fixed standard होने के कारण से कुछ companies और manufactures को protocol इस्तमाल करने में मुशिकल होता है.

Conclusion

हमे आशा है कि आप सभी को हमारा ये Protocol kya hai | Type of protocol | Yah kaise kam krata hai in hindi . पसंद आया होगा. हम हमेशा यही कोशिश करते है की आप सभी को ज्यादा से ज्यादा जानकरी दे सके. इस article में हमने आपको हर प्रकार की जानकारी देने की कोशिश करी है.

इस article को पढ़कर आपको जो हर प्रकार की information मिल जायेगी. अगर आपको इस article से related कोई भी doubts है. या आपको हमसे कुछ भी पूछना हो. तो आप लोग हमे comments कर सकते है.

अगर आपको हमारे इस पोस्ट Protocol kya hai | Type of protocol | Yah kaise kam krata hai in hindi. से कुछ भी सीखने को मिला हो. तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा facebook , twitter , Instagram etc पर जरुर share करे.

One thought on “Protocol kya hai | Type of protocol | Yah kaise kam krata hai in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by Hindi World Tech