Net Neutrality Hindi

Net Neutrality, इसकी आज इंटरनेट पर चारों ओर सबसे बड़ी बहस चल रही है, और कुछ देशों कि सरकार तो अब इसपर वोट लेने के लिए तैयार भी हो रही हैं।

आज हम जानेंगे कि Net Neutrality असल में क्या हैं और इसका आप पर क्या असर हो सकता है।

What is Net Neutrality in Hindi?

Net neutrality यह एक कांसेप्ट हैं कि ऑनलाइन ट्रैफिक के साथ समान रूप से व्यवहार किया जाना चाहिए, चाहे वह ईमेल, सोशल मीडिया पोस्ट, वॉइस कॉल, शॉपिंग या यूट्यूब वीडियो हों।

इसका अर्थ हैं कि बिना किसी प्रतिबंध और भेदभाव के वेब का एक्‍सेस, और यह सुनिश्चित करता है कि इंटरनेट मुक्त और ओपन हो – न केवल ब्रॉडबैंड प्रोवाइडर्स को कंटेंट को ब्‍लॉक करने से रोकना, बल्कि उन्हें अधिक लाभ के लिए फास्‍टर डिलेवरी कि सर्विस के लिए अधिक पेमेंट मांगने से रोकना भी हैं।

लेकिन अब वर्तमान में यह अमेरिका में खतरे में है और टेक के कुछ सबसे बड़े नाम इसे बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

इंटरनेट वर्तमान में कैसे काम करता है?

अभी, इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को कुछ प्रकार के डेटा के लिए प्रेफरेन्शल ट्रीटमेंट देने की अनुमति नहीं है। चाहे आप किसी तरह कि भी वेब साइट ओपन कर रहे हो, चाहे वह गूगल, फेसबुक या कोई अन्य छोटी वेबसाइट ही क्यों न हो, आपके इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर इन कनेक्शनों को समान रूप से मानते हैं और एक ही स्‍पीड से आपको डेटा भेजते हैं। उन्‍हे किसी विशेष ट्रैफिक को स्‍लो या फास्‍ट करने कि अनुमति नहीं हैं।

जिसका अर्थ है कि अपने डेस्टिनेशन तक जल्दी पहुंचने के लिए डेटा का एक सेट दूसरे डेटा सेट से आगे नहीं जा सकता।

इस तरह से इंटरनेट ने हमेशा अधिकांश समय से काम किया है, और यह नियम वर्तमान में लागू है। इसके लिए Net Neutrality को धन्यवाद देना चाहिए।

लेकिन इसके लिए कौनसी बाते अपवाद हैं?

यहाँ निश्चित रूप से कुछ बाते हैं, जो अपवाद हैं। जब net neutrality को पिछले साल यूरोपीय संघ के कानून में शामिल किया गया था, तो इसमें कई अपवाद शामिल थे। उदाहरण के लिए, ISP ट्रैफिक को मैनेज करने में सक्षम हैं यदि वे कानूनी तौर पर बाध्य होते हैं, इसलिए यदि कोई न्यायालय आदेश देता है कि कुछ कंटेंट को ब्‍लॉक करना है, तो उस पर कार्रवाई की जानी चाहिए।

इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर डेटा के फ्लो में भी हस्तक्षेप कर सकते हैं यदि यह कदम नेटवर्क को अधिक सुरक्षित बनाता है या यदि उन्हें डर है कि यह विशिष्ट समय पर अधिक ट्रैफिक का कारण हो सकता है।

हालांकि, वे कुछ बाते तो बिल्कुल नहीं कर सकते, जैसे कि एक म्यूजिक स्ट्रीमिंग को स्‍लो कर दूसरे म्यूजिक स्ट्रीमिंग को बिना इफेक्‍ट के जारी रखना। उन्हें दोनों के लिए समान रूप से व्यवहार किया जाना चाहिए।

इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर वर्तमान में “common carriers” के रूप में क्‍लासिफाइड किए जाते हैं, जिसका अर्थ है कि बिना किसी भेदभाव और हस्तक्षेप के ट्रैफिक को carry करना।

What is Net Neutrality
What is Net Neutrality

Net Neutrality ख़बरों में क्यों हैं?

रिपब्लिकन अजीत पै, जिन्हें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा FCC के अध्यक्ष पद दिया गया, का मानना है कि Net Neutrality को लागू करने से फास्‍टर ब्रॉडबैंड कनेक्शन के लिए कंज्यूमर एक्‍सेस स्‍लो हो गया हैं और इससे नेटवर्क के विस्तार में निवेश कम हो गया है। उनका समर्थन यूएस के केबल कंपनियों द्वारा किया जाता है जो कंटेंट के लिए ग्रांट प्रेफेरेंशियल ट्रीटमेंट देने में सक्षम होना चाहते हैं।

वे कहते हैं कि नवीनता को दबा दिया गया है और ब्रॉडबैंड में लगाए गए धन की मात्रा तीन प्रतिशत तक कम हो गई है। पै net-neutrality के नियमों के साथ “स्वैच्छिक” अनुपालन का समर्थन करते है, जो बताते है कि कोई भेदभाव, ब्‍लॉकिंग‍ या पेड़ प्राथमिकता नहीं होनी चाहिए।

यूएस नेटवर्क कॉमकास्ट और वेरिज़ोन ने कहा है कि उन्हें भीड़भाड़ कि ट्रैफिक से निपटने में मदद करने के लिए कुछ कंपनियों को चार्ज करने की आवश्यकता है।

Net Neutrality के समर्थक इNet Neutrality Hindi.स बारे में क्या कहते हैं?

जैसा कि आप उम्मीद करते हैं, वे डरते हैं कि ISP कंटेंट डिलेवरी में हस्तक्षेप करने का प्रयास करेंगे। ओपन इंटरनेट पर चार लाख लोगों के कमेंटस् को पोस्ट किया गया और इसके समर्थक लड़ाई के बिना झुकने को तैयार नहीं हैं।

वे सभी, डेटा के लिए एक ही स्‍पीड चाहते हैं और वे चाहते हैं कि सभी लिगल कंटेंट के साथ समान रूप से बर्ताव किया जाए। निश्चित रूप से, वे किसी भी चाल के विरोध में हैं जो ISP को कंटेंट प्रोवाइडर को बेहतर स्‍पीड और प्राथमिकता देने के लिए फास्ट लेन्स सेट करने की अनुमति देगी। वे तर्क देते हैं कि ओपन इंटरनेट नियमों को वापस लाने में नवीनता बाधित होती है और यूजर्स के बजाय ISP यह निर्धारित कर सकेंगे कि कौन सी कंपनियों को जिताना हैं और किसे हराना हैं।

लेकिन बड़ी टेक कंपनियों ने इसके बारे में क्या किया है?

कुछ इंटरनेट की सबसे बड़ी कंपनियों ने 12 जुलाई को इसके विरोध के लिए ‘Day of Action’ मनाया। इनमें अमेज़ॅन, किकस्टार्टर, रेडित, गिटहब, इटसी, मोज़िला, नेटफ्लिक्स बिटटॉरेंट और वीमियो शामिल थे।

Net Neutrality का आप पर क्‍या असर होगा?

अगर Net Neutrality को किसी भी देश में खत्म किया जाता है, तो इसमें सभी वेब यूजर्स पर कुछ व्यापक दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं।

1) Extra costs:

बड़ी इंटरनेट कंपनियां अनिच्छा से “फास्‍ट लेन” के एक्‍सेस के लिए ज्‍यादा पेमेंट करेंगी लेकिन अतिरिक्त लागतों को यूजर्स से वसूला जाएगा।

2) Less choice:

‘स्‍लो लेन’ उन छोटी कंपनियों को मिल सकता है जो बहुत कम यूजर्स को आकर्षित करते हैं और इसलिए वे उम्मीद कि मुताबिक अपना विस्तार नहीं कर सकते।

नए स्टार्टअप इससे प्रभावित हो सकते हैं क्योंकि ऑप्टिमम सर्विस प्रोवाइड करने की लागत बढ़ जाएगी।

3) Blocked content:

कोई कंपनी किसी ISP को ज्‍यादा पैसे देकर अपने कंटेंट को अनब्‍लॉक कर और अपने प्रतिद्वंद्वियों के कंटेंट को ब्‍लॉक कर सकती हैं। अनिवार्य रूप से दुनिया भर में इसका असर पड़ेगा।

4) A tiered internet:

हालांकि अभी यह सुझाव सुनने के लिए डरावना हो सकता है कि ISP केवल कुछ कंटेंट या लिमिटेट इंटरनेट पैकेज को ऑफर करेंगे जैसा कि आजकल एरटेल, डिशटिवी जैसे केबल ऑपरेटर केवल कुछ बेसिक चैनल के पैकेज ऑफर कर रहे हैं।\

हमे उम्मीद है की आज का हमारा यह पोस्ट ( What is Net Neutrality in Hindi? ) आप सभी को पसंद आया होगा. अगर इस पोस्ट ( What is Net Neutrality in Hindi? ) से related कोई भी doubt हो तो हमे जरुर comment करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × four =