Learn Computer Hardware Hindi

आज के इस पोस्ट में हम आपको Computer Hardware के बारे में बताने वाले है. चलिए देखते है की Computer Hardware Hindi


Introduction to Computer

कंप्‍यूटर यह एक ऐसा डिवाइस है, जो मनुष्‍य को दिमागी प्रोसेस में मदद करता है। हालांकि मनुष्‍य का दिमाग कंप्‍यूटरसे कई गुना ज्‍यादा अच्छा है, लेकिन फिर भी मनुष्‍य के जीवन मे कंप्‍यूटर का महत्‍व सर्वोच्च है।
कंप्‍यूटर यह शब्‍द कंप्‍यूट इस अग्रेजी क्रियापद से तैयार हुआ है। कंप्‍यूट का मतलब कैलकुलेशन कर किस सवाल का जवाब ढूंढना।
कंप्‍यूटर यह एक इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइस है, जो इनपुट लेता है, उसपर प्रोसेस करता है और हमें आउटपूट देता है।

Types of Computer in Hindi:

कैपेसिटी के अनुसार वर्गीकरण कंप्‍यूटर की कैपेसिटी, उसका स्‍पीड, मेमोरी और स्‍टोरेज की कैपेसिटी पर निर्भर होती है। कैपेसिटी के अनुसार कंप्‍यूटर को चार टाइप में विभाजित किया गया है –

1) Supercomputer:
यह सबसे पावरफुल टाइप है। इसकी एफिशिएंसी, मेमोरी और स्‍टोरेज कैपेसिटी सबसे अधिक होती है। इसका यूज अनुशास्त्र, अंतरिक्ष विज्ञान, मौसमविज्ञान जैसे रिसर्च के कामों के किया जाता है। इन कामों के लिए काफी मैथमैटिकल कैलकुलेशन की आवश्‍यकता होती है।

2) Mainframe computer:
इसकी काम करने की और स्‍पीड की कैपेसिटी भी काफी ज्‍यादा होती है। इन कंप्‍यूटर्स को एक ही समय हजारों यूजर्स इस्‍तेमाल कर सकते है। इनमें एक ही समय कई तरहे के काम किए जा सकते है। बहुत बडी इनफार्मेशन पर प्रोसेस करने के लिए इनका इस्‍तेमाल किया जाता है। जैसे प्‍लैन या रेलवे रिजर्वेशन करने के लिए, यूनिवरसिटीज में, इन्शुरन्स कंपनी में।

3) Minicomputer:
इन कंप्‍यूटर्स का डिज़ाइन मेनफ्रेम कंप्‍यूटर जैसा ही होता है, लेकिन इनका स्‍पीड और काम करने की कैपेसिटी उनसे कम होती है। इनकी साइज रिफ्रिजरेटर जितनी होती है। इनका यूज मध्यम आकार के ट्रस्‍ट, बैंक की ब्रैंच आदि जगहों पर किया जाता है।

4) Microcomputer:
यह कंप्‍यूटर का टाइप सबसे ज्‍यादा पॉप्‍यूलर हुआ है, लेकिन इनकी कैपेसिटी उपर दिए गए कंप्‍यूटर्स के कम ही होती है। पर्सनल कामों के लिए, ऑफिस कामों के लिए इनका यूज किया जाता है। इनके टाइप इस प्रकार है –

a) Servers:
कई बार नेटवर्क में एक मुख्‍य कंप्‍यूटर होता है और वह दूसरे कंप्‍यूटर्स को प्रोग्राम और इनफॉर्मेशन प्रोवाइड करता है। इनफॉर्मेशन पर प्रोसेस अन्‍य कंप्‍यूटर्स पर होती है। सर्वर पर बडी मात्रा में इनफॉर्मेशन को स्‍टोर करने के लिए इसकी स्‍टोरेज कैपेसिटी ज्‍यादा होती है और बडी मात्रा में डेटा पर प्रोसेस करने के लिए इसकी मेमोरी भी ज्‍यादा होती है। कुछ सर्वर विशिष्‍ट कामों के लिए इस्‍तेमाल किए जाते है, उन्‍हे डेडिकेटेड सर्वर कहते है। जैसे की, Application servers, Communication Server, Database Server, File Server, Printer Server और Web Server.

b) Workstation:

कुछ जगहों पर कंप्‍यूटर में बडी संख्‍या में इनफॉर्मेशन को स्‍टोर करने बडी मेमोरी की आवश्‍यकता होती है। ऐसे समय वर्कस्‍टेशन का इस्‍तेमाल किया जाता है। डिजाइन, ऐड्वर्टाइज़ जैसे कामों के लिए इनका इस्‍तेमाल किया जाता है।

c) Desktop Computers:

टेबल पर रखें और एक समय में एक ही यूजर्स दवारा इस्‍तेमाल किए जाने वाले कंप्‍यूटर्स को डेस्‍कटॉप कंप्‍यूटर्स कहा जाता है।

d) Laptop Computers:

यह कंप्‍यूटर्स एक छोटी ब्रिफकेस में समा जाते है और वे बैटरी पर चलते है। ट्रैवल में इन्‍हे आसानी से यूज किया जाता है।

e) Notebook Computers:

यह कंप्‍यूटर्स लैपटॉप जैसे ही होते है, लेकिन इनकी साइज और कैपेसिटी कम होती है। प्रेजेंटेशन जैसे छोटे कामों के लिए इनका इस्‍तेमाल किया जाता है।

f) Tablet PC:

यह टाइप अभी पॉप्‍यूलर हो गया है। इनकी साइज ७ इंच से ९ इंच की होती है। टचस्‍क्रीन से इसमें कमांड दे सकते है।

g) Palmtop Computer:

इनकी साइज मनुष्‍य के हात के जितनी होती है। इनमें इनपुट डिवाइस के तौर पर पेन का इस्‍तेमाल किया जाता है। इसमें रायटिंग रेकग्निशन, पर्सनल ऑर्गनायझेशनल टूल और कम्‍यूनिकेशन का समावेश होता है।

Computer Hardware Hindi.

Chapter – 2
Desktop Computers Hardware in Hindi

माइक्रोकंप्‍यूटर के हार्डवेयर को चार भागों में विभाजित किया गया है – System unit, Inpur/Outup Devices, Secondary Storage और Communication.

Learn Computer Hardware
Learn Computer Hardware

Types Of Hardware In Hindi:

System Unit:

सिस्टिम युनिटको सिपियू भी कहा जाता है। इस ब्‍लॉक डाइग्राम की मदद से आप सिपियू के काम को समझ सकते है।

C.P.U.

सिपुयु में तीन पार्ट होते है –
1) ALU (Arithmatic Logic Unit) :- Arithmatical मतलब मैथमैटिकल प्रोसेस (+,-,x,/) और Logical मतलब कम्पैरिजन (<,>,=,<>)। यह दो काम ALU करता है। इसे तीन भागों में विभाजित किया गया है –

a) Register: यहाँ पर टेम्पररी डेटा स्‍टोर किया जाता है।

b) Adder: यहाँ डेटापर प्रोसेस होती है।

c) Accumulator: प्रोसेस होने के बाद आए जवाब को यहाँ स्‍टोर किया जाता है।

हमे उम्मीद है की आज का हमरा पोस्ट (Computer Hardware) आप सभी कोपसंद आया होगा. अगर आपको इस पोस्ट (Computer Hardware) से related कोई भी doubt हो तो हमे जरुर comment करके बताये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 2 =