ICO क्या है (Initial Coin Offering in Hindi)

क्या आप जानते है की  ICO क्या है (Initial Coin Offering in Hindi). आप लोगो ने कही ना कही इस के बारे में तो सुना ही होगा. क्योकि आज हर कोई इस Term ICO के बारे में जानने को चाहता है.

Initial Coin Offering in Hindi
Initial Coin Offering in Hindi

दोस्तों जैसे की हम जानते हैं की आजकल Cryptocurrency internet पर काफी trend कर रही है. Cryptocurrency का सबसे अच्छा उदाहरण Bitcoin होता है क्यूंकि जिस तेजी से Bitcoin की कीमत में उछाल आया है.

आज कल internet पर किसी भी Bitcoin या cryptocurrency से connected website पर एक नयी चीज़ देखने को मिल रही है. जिसका नाम है Initial Coin Offering (ICO) है. जिसको   हिंदी मैं “आरंभिक सिक्का ऑफरिंग” कहते है.

आजकल internet पर ICO एक बहुत बड़े चर्चा का विषय बना गया है. लेकिन लोगों को ICO के बारे में सही जानकारी नही पता है. आज के इस पोस्ट में हम आपको ICO क्या है (Initial Coin Offering in Hindi) के बारे में बताने वाले है. तो दोस्तों ICO (Initial Coin Offering) के बारे में जानने के लिए हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े.

ICO full form

ICO full formInitial Coin Offering
ICO full form

ICO full form in Hindi

ICO full form in Hindiआरंभिक सिक्का ऑफरिंग
ICO full form in Hindi

ICO क्या है – What is Initial Coin Offering in Hindi

ICO (Initial Coin Offering) को एक new cryptocurrency जारी करने के लिए crowd funding के एक option के रूप में इस्तमाल किया जाता है. जब किसी भी crypto currency के लिए crowd funding के जरिये रकम जुटाई जाती है.

उस Process में company अपने Investors को जिन्होनें company को रकम जुटाने में मदद की है. उनको company में Share या हिस्से की जगह एक टोकन Provide करती है.

इस टोकन को Investors जैसे चाहे वैसे उपयोग कर सकते है. company द्वारा जारी किया जाता है. इस टोकन को Investors किसी को भी बेच सकती है. या फिर अपने पास रख कर इसकी price value बढ़ने का इंतज़ार भी कर सकती है.

आप इस टोकन को bitcoin, Ethereum या किसी और crypto currency में उपयोग करके bitcoins खरीदने के लिए उपयोग कर सकते है. यह tokens हर जगह इस्तमाल किया जाता है.

History Of ICO initial coin offering

जुलाई में सन 2013 में Mastercoin द्वारा पहले टोकन की बिक्री आयोजित की गयी, Ethereum ने सन 2014 में टोकन बिक्री के साथ अपने पहले 12 घंटों में 3,700 BTC जुटाए, जो लग भग 2.3 Million dollars के equal होता है.

ICO और टोकन बिक्री आज के समय में बहुत ज्यादा Popular हो चूके है.

ICO क्यों इस्तमाल किया जाता है?

जब कोई भी company शुरू होती है. तो उसको सबसे पहले अपने Product के लिए रकम जुटानी होती है. उसके पास रकम जुटाने के तीन मुख्य तरीके होते है जिसके बारे में नीचे बताया गया है.

1. पहला की वह Investors को अपनी company में शेयर दे.

2. दूसरा की वह किसी bank से loan लेकर अपनी company की funding करे. इस State में कंपनी को बैंक को ब्याज भी देना पड़ेगा.

3. तीसरा Product को बनाने से पहले उसका Order लेना और उससे पैसे जमा करके Product बनाना और बेचना.

How ICO works?

जब कोई भी cryptocurrency startup firm ICO के जरिये fund raise करना चाहती है. तो fund raise करने से पहले वह कंपनी एक Plan बनाती है. कंपनी एक whitepaper पर project से जुडी सारी information लिखती है.

जिसमे बताया जाता है की project में कितने पैसे लगेंगे और firm को कितने पैसे चाहिए? firm को fund raise करने में कितना समय लगेगा? यह ICO campaign कब तक चलेगा और अगर raise की हुई रकम प्लान की गयी रकम से कम होती है. तो ऐसे मैं क्या होता है. यह सारी information उस whitepaper पर लिखी हुयी होती है. whitepaper ICO का एक बहुत Important paper होता है.

ICO के ज्यादातर मामलों में Equity शामिल नहीं होने के कारण Investors को ICO के दौरान कम दरों पर Crypto currency खरीदने में अधिक दिलचस्पी होती है. शुरुआत में ICO कम दरो पर मिल जाती है पर जैसे कंपनी grow करती है इसकी price value और market value भी बढ़ती है.

Investors कम कीमतों में खरीद कर ज्यादा पैसो में बेचने की सोच के साथ ICO पर Investment करते है. जब ICO Exchanges पर आ जाती है तो Investors को काफी मुनाफा होता है. Bitcoin ने अभी हाल के समय में 1000 Dollar पार किये है. जबकि 2011 में यह मात्र एक Dollar था.

Advantages of ICO in hindi

ICO का सबसे अच्छा फायदा है यह की इसके जरिये जो Companies Investors ढूंढ रही होती है. उनको निवेश करने के लिए लोग मिल जाते है. यही फायदा इसमें Investment करने वालो के लिए भी है.

Investors बड़ी आसानी से ICO में Investment कर सकते है. ICO Investment के लिए सब के लिए खुला है. कोई भी व्यक्ति इसमें Investment कर सकता है.

जब भी project की शुरुआत होती है तो टोकन कम price पर खरीदे जा सकते है. project के सफल होने के बाद इनका value काफी बढ़ जाता है. और फिर इनको बेच कर आप काफी अच्छा पैसा कमा सकते है.

Disadvantages of ICO in hindi

ICO के सिर्फ फायदे नहीं है इसके कुछ नुकसान भी है. टोकन में दी जाने वाली तरलता अपनी जगह है, पर इसमें Investment करने से पहले आपको project के बारे में पूरी information होनी चाहिए.

और अगर आप बिना पूरी information के Investment करते है, तो आपको काफी नुकसान सहन करना पढ़ सकता है.

इसकी लोक प्रियता को देखते हुए आजकल बहुत सी कंपनिया ICO के नाम पर फर्जीवाड़े भी कर रही है.

इस लेख में ICO क्या है (Initial Coin Offering in Hindi) पढ़ने से आपको सभी प्रकार की जानकारी मिल जाएगी। यदि आपको इस लेख से संबंधित कोई संदेह है। या आपको हमसे कुछ पूछना है तो आप लोग हम पर टिप्पणी कर सकते हैं।

अगर आपको हमारे इस पोस्ट ICO क्या है (Initial Coin Offering in Hindi) से कुछ भी सीखने को मिला है हमारे इस पोस्ट को facebook , ट्विटर, Instagram आदि पर जरुर share करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by Hindi World Tech