e payment system Hindi.

Consumer सुविधा चाहते हैं; यह online shopping में लोकप्रियता बढ़ने के कारणों में से एक है। बिग commerce द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि e payment साल भर 23 प्रतिशत बढ़ रहा है।

आगामी वर्षों में, एशियाई क्षेत्र में e payment की तेजी आने की उम्मीद है। एशिया प्रशांत में डिजिटल खरीदारों की संख्या 2018 में पहली बार एक अरब अंक पारित करने का अनुमान है, जो इस क्षेत्र के सभी इंटरनेट यूजर्स के 60 प्रतिशत होगा। क्षेत्रीय विकास के अनुरूप, तेजी से बढ़ते एशियाई बाजार, भारत e payment उद्योग के लिए आशावादी अनुमान दिखाता है।

भारत में वर्तमान सक्रिय e payment पेनिट्रेशन केवल 28 प्रतिशत है, जिसमें सुधार के लिए बहुत सारे मौके हैं। भारत के खुदरा e payment CAGR 2016 से 2021 तक 23 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है।

यह बिज़नेस के लिए अपने ब्रांड का विस्तार करने और उनके रेवेन्यू में काफी वृद्धि करने का एक बड़ा अवसर है। इसलिए, आपको इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्‍टम के बारे में जानने की आवश्यकता है।

चाहे आप एक कंज्यूमर हो या एक बिज़नेसमन हों, यहां electronic payment systems के बारे में जानने के लिए सब कुछ हैं, जो आपको जानना चाहिए।

What is e payment system in Hindi

e-payment चेक या नकदी के उपयोग के बिना इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से लेनदेन करने या माल और सेवाओं के लिए पेमेंट करने का एक तरीका है। इसे electronic payment system या online payment system भी कहा जाता है।

Electronic Payment System in Hindi:

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट कस्टमर्स को इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रॉडक्‍ट या सर्विसेस के लिए पेमेंट करने की अनुमति देता है। इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट आपको अपने पसंदीदा ऑनलाइन स्टोर के माध्यम से मोबाइल से लेकर शुज़ तक सब कुछ खरीदने या ऑनलाइन इलेक्ट्रिसिटी या केबल बिल का पेमेंट करने की अनुमति देता है।

e-payment system के बारे में जानना क्यों महत्वपूर्ण है?

इंटरनेट आधारित बैंकिंग और खरीदारी के बढ़ते फैलाव के चलते इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्‍टम पिछले दशकों में तेजी से बढ़ी है।

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट के साथ दुनिया आगे बढ़ रही है, हम इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्‍टम और पेमेंट प्रोसेसिंग डिवाइसेस के उदय को देख सकते हैं।

ऑनलाइन पेमेंट तत्काल हो जाते हैं, इसलिए यह सुविधाजनक है और बहुत समय बचाता है। यह महत्वपूर्ण है, खासकर आज जब हमारे जीवन का हर पहलू तेजी से होता है।

जैसे ही इस सिस्‍टम में बढ़ोतरी होगी, सुधार होंगे और अधिक सुरक्षित ऑनलाइन पेमेंट सिस्‍टम प्रोवाइड कि जाएगी, तो चेक और कैश ट्रैन्ज़ैक्शन्ज़ का प्रतिशत घट जाएगा।

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्‍टम कैसे काम करती है?

How e-payment System Works in Hindi?

यह समझना कि इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्‍टम कैसे कार्य करता हैं, तकनीकी हो सकता हैं क्योंकि इसमें बहुत से भाग शामिल हैं। तो आइए देखते इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट ट्रैन्ज़ैक्शन्ज़ के लिए आवश्यक मुख्य हिस्से कौन से है:

  1. कार्डहोल्डर: कार्डधारक को उपभोक्ता के रूप में पहचाना जाता है जो ऑनलाइन प्रोडक्‍ट या सर्विस खरीदता है।
  2. मर्चेंट: व्यापारी वह व्यक्ति या व्यवसाय है जो कार्डधारक को प्रोडक्‍ट या सर्विस बेचता है।
  3. इशूअर: इशूअर वित्तीय संस्थान है जो कार्डधारक को पेमेंट कार्ड प्रोवाइड करता है। यह आमतौर पर कार्डधारक का बैंक होता है।
  4. Acquirer, या मर्चेंट अकाउंट प्रोवाइडर: अधिग्रहणकर्ता, या मर्चेंट अकाउंट प्रोवाइडर, वित्तीय संस्थान है जो व्यापारी के साथ अकाउंट स्थापित करता है। अधिग्रहणकर्ता कार्डधारक अकाउंट की वैधता को अधिकृत करता है।
  5. पेमेंट प्रोसेसर: पेमेंट प्रोसेसर कार्डधारक और व्यापारी के बीच आधिकारिक लेनदेन को संभालता है।
  6. पेमेंट गेटवे: पेमेंट गेटवे मर्चेंट पेमेंट मैसेज को प्रोसेस करता है और ट्रैन्ज़ैक्शन सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सेक्‍युरिटी प्रोटोकॉल और एन्क्रिप्शन का उपयोग करता है।

E Payment System की प्रोसेस क्या हैं?

E Payment System Process:

E Payment System के ऊपर दिए गए सभी भागो को जानने के बाद अब असल में Payment बटन के पीछे की प्रोसेस जटिल है, इसलिए कुछ बेसिक बातें आपको बेहतर समझने के लिए यहां दी गई हैं।

कस्‍टमर एक्‍शन:

प्रोसेस तब शुरू होती है जब कोई कस्‍टमर मर्चेंट की साइट पर जाता है और आइटम (प्रोडक्‍ट या सर्विस) को cart में एड करता है जिसे वे खरीदना चाहते हैं।

उन्हें, फिर कुछ जानकारी के साथ पेमेंट फॉर्म भरना होगा (जैसे card number, expiration date, CVV code, address)।

पेमेंट मेथड के आधार पर, कस्‍टमर को या तो एक्‍सटर्नल सर्विस या बैंक की वेबसाइट पर रिडायरेक्ट किया जाता है या वेबसाइट पर या ऐप में पेमेंट जारी रहता है।

ऑपरेटर द्वारा पेमेंट प्रमाणीकरण:

पेमेंट गेटवे (शामिल अन्य पार्टियों के साथ) यह जांचता है कि पेमेंट इनफॉर्मेशन मान्य है या नहीं। अगर सब कुछ ठीक है, तो प्रोसेस जारी रहती है और पेमेंट गेटवे सफल ट्रांजेक्शन को वापस रिपोर्ट करता है। उसके बाद, कस्‍टमर को पेमेंट कन्फर्मेशन प्राप्त होता है – नोटिफिकेशन आमतौर पर रियल टाइम में डिस्‍प्‍ले होती है।

विक्रेता के अकाउंट में पेमेंट:

ऑनलाइन पेमेंट प्रोवाइडर किसी कस्‍टमर के बैंक से पेमेंट प्राप्त करता है और इसे मर्चेंट के अकाउंट में ट्रांसफर करता है।

आम तौर पर, e-payments पारंपरिक पेमेंट मेथड जैसे बैंक ट्रांसफर, चेक इत्यादि कि तुलना में फास्‍ट और सुरक्षित ऑप्‍शन माना जाता है।

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट के तरीके कितने हैं?

Electronic Payment Methods in Hindi:

सबसे लोकप्रिय ऑनलाइन पेमेंट मेथड में से एक क्रेडिट और डेबिट कार्ड हैं। उनके अलावा, वैकल्पिक पेमेंट मेथड भी हैं, जैसे कि बैंक ट्रांसफर, इलेक्ट्रॉनिक वॉलेट, स्मार्ट कार्ड या बिटकॉइन वॉलेट (बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है)।

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट के कुछ तरीके नीचे सूचीबद्ध हैं –

1) क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट का सबसे आम तरीका है।

जब कोई कस्‍टमर क्रेडिट कार्ड के माध्यम से प्रॉडक्‍ट खरीदता है, तो क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता बैंक ग्राहक की तरफ से पेमेंट करता है और कस्‍टमर के पास एक निश्चित समय अवधि होती है जिसके बाद वह क्रेडिट कार्ड बिल का पेमेंट कर सकता है। यह आमतौर पर क्रेडिट कार्ड मासिक पेमेंट साइकिल होता है।

2) डेबिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड की तरह डेबिट कार्ड, एक छोटा प्लास्टिक कार्ड है जिसमें बैंक अकाउंट नंबर के साथ मैप किए गए युनिक नंबर होते हैं। बैंक से डेबिट कार्ड प्राप्त करने से पहले बैंक अकाउंट होना आवश्यक है।

डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के बीच बड़ा अंतर यह है कि डेबिट कार्ड के माध्यम से पेमेंट के मामले में, अमाउंट तुरंत कार्ड के बैंक अकाउंट से कटौती की जाती है और इसलिए ट्रांजेक्शन के पूरा होने के लिए बैंक अकाउंट में पर्याप्त शेषराशि होनी चाहिए; जबकि क्रेडिट कार्ड लेनदेन के मामले में, ऐसी कोई बाध्यता नहीं है।

3) स्मार्ट कार्ड

स्मार्ट कार्ड फिर से क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के समान होता है, लेकिन इसमें एक छोटी माइक्रोप्रोसेसर चिप लगाई जाती है। इसमें ग्राहक के काम-संबंधित और/या व्यक्तिगत जानकारी को स्टोर करने की क्षमता होती है। स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल पैसे स्‍टोर करने के लिए भी किया जाता है और प्रत्येक ट्रांजेक्शन के बाद अमाउंट काटा दी जाती है।

स्मार्ट कार्ड को केवल उस पिन का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है जिसे प्रत्येक कस्‍टमर के साथ सौंपा गया है। स्मार्ट कार्ड सुरक्षित हैं, क्योंकि वे एन्क्रिप्टेड फॉर्मेट में इनफॉर्मेशन स्‍टोर करते हैं और कम महंगे होते हैं / फास्‍ट प्रोसेसिंग प्रदान करते हैं।

4) ई-वॉलेट

ई-वॉलेट एक प्रीपेड अकाउंट है जो कस्‍टमर को एक सुरक्षित वातावरण में कई क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और बैंक अकाउंट नंबर स्टोर करने की अनुमति देता है।

इससे पेमेंट करते समय हर बार लगने वाली अकाउंट इनफॉर्मेशन किज की आवश्यकता को समाप्त करता है। एक बार जब कस्‍टमर ई-वॉलेट प्रोफ़ाइल रजिस्‍टर करता हैं, तो वह फास्‍ट पेमेंट कर सकता है।

5) नेटबैंकिंग

e payment पेमेंट करने का यह एक और लोकप्रिय तरीका है। यह सीधे कस्‍टमर के बैंक से ऑनलाइन खरीद के लिए पेमेंट करने का एक आसान तरीका है।

यह कस्‍टमर के बैंक में पहले से मौजूद पैसे का पेमेंट करने के डेबिट कार्ड के समान मेथड का उपयोग करता है। नेट बैंकिंग के लिए यूजर को पेमेंट उद्देश्यों के लिए कार्ड रखने की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन यूजर को नेट बैंकिंग फीचर के लिए अपने बैंक के साथ रजिस्‍ट्रेशन करने की आवश्यकता होती है। खरीद को पूरा करते समय कस्‍टमर को सिर्फ अपनी नेट बैंकिंग आईडी और पिन डालना होता हैं।

ई-पेमेंट सिस्टम का उपयोग करने के फायदे और नुकसान

Advantages and Disadvantages of using an e-payment system in Hindi:

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट की स्वीकृति को सुविधाजनक बनाने के लिए ई-पेमेंट सिस्‍टम बनाई जाती है। ऑनलाइन खरीदारी की बढ़ती लोकप्रियता के साथ, ऑनलाइन कंज्यूमर के लिए ई-पेमेंट सिस्‍टम जरूरी हो गई – खरीदारी और बैंकिंग को और अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए। लेकिन यह कई Advantages और Disadvantages के साथ आता है, जैसे कि:

ई-पेमेंट सिस्टम का उपयोग करने के फायदे क्या हैं?

e payment system
e payment system

Advantages of an e-payment System in Hindi:

  • दुनिया भर से अधिक ग्राहकों तक पहुंचने, जिसके परिणामस्वरूप अधिक बिक्री होती है।
  • अधिक प्रभावी और कुशल लेन-देन – ऐसा इसलिए है क्योंकि लेन-देन ग्राहकों के समय को बर्बाद किए बिना सेकंड में (एक-क्लिक के साथ) किया जाता है। यह गति और सादगी के साथ आता है।
  • सुविधा। ग्राहक किसी भी समय और कहीं भी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर वस्तुओं के लिए पेमेंट कर सकते हैं। उन्हें सिर्फ एक इंटरनेट से जुड़े डिवाइस की आवश्यकता है। इतना सरल है!
  • कम ट्रांजेक्शन लागत और टेक्नोलॉजी लागत में कमी आई है।
  • ग्राहकों के लिए खर्च पर नियंत्रण, क्योंकि वे हमेशा अपने वर्चुअल अकाउंट को चेक कर सकते हैं जहां वे ट्रांजेक्शन कि हिस्‍ट्री पा सकते हैं।
  • आज वेबसाइट पर पेमेंट को एड करना आसान है, इसलिए एक नॉन- टेक्निकल व्यक्ति इसे मिनटों में लागू कर सकता है और ऑनलाइन पेमेंट प्रोसेसींग शुरू कर सकता है।
  • पेमेंट गेटवे और पेमेंट प्रोवाइडर्स ट्रांजेक्शन को विश्वसनीय बनाने के लिए अत्यधिक प्रभावी सुरक्षा और एंटी-फ्रॉड टूल प्रदान करते हैं।

यह सभी Advantages जानकर बहुत अच्छा लगता है, तो क्या कोई कमी है?

ई-पेमेंट सिस्टम का उपयोग करने के नुकसान क्या हैं?

Disadvantages of an e-payment system in Hindi:

  • ई-कॉमर्स फ्रॉड प्रति वर्ष 30% पर बढ़ रहे है। यदि आप सुरक्षा नियमों का पालन करते हैं, तो ऐसी कोई समस्या नहीं होनी चाहिए, लेकिन जब कोई व्यापारी पेमेंट सिस्‍टम चुनता है जो अत्यधिक सुरक्षित नहीं है, तो संवेदनशील डेटा उल्लंघन की जोखिम होती है जो पहचान की चोरी का कारण बन सकती है।
  • ज्यादातर के लिए, यह कोई समस्या नहीं है, लेकिन आपको याद रखना होगा कि आपका कुछ व्यक्तिगत डेटा पेमेंट सिस्‍टम के डेटाबेस में स्‍टोर है।
  • इंटरनेट एक्सेस की आवश्यकता – जैसा कि आप जान गए हैं, यदि इंटरनेट कनेक्शन विफल रहता है, तो ट्रांजेक्शन को पूरा करना असंभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + twelve =